HOME    About This Site    mypage        Japanese    library    university    Feedback

Search:All of DSpace

(type:SARDA) is hit count [2903].
Results 221-230.
 

previous 14 15 16 17 18 19 20 21 22 23 24 25 26 27 28 29 30 31 32 next 

221 अनेकार्थ भाषा : जिसमें एक 2 वस्तु के अनेक अर्त्थ महाललित दोहों के अन्त में श्रीमन्महाविष्णु के गुणकथन पूर्वक रचित हैं / नन्ददासमहाराजरचित / Nandadāsa -- Navalakiśora1913 SARDA
222 पद्यसङ्ग्रह : हनुमानप्रसाद साहिब से रचा गया / Sāhiba, Hanumānprasāda -- Navalakiśora1877 SARDA
223 पदार्थविद्यासार / विलियम हैण्डफोर्ड की अज्ञानुसार विजयशङ्कर उर्दू से हिंदी भाषा में उलथाकर बनाया / Vijayaśaṅkara -- Navalakiśora1865 SARDA
224 मुहूर्त्तगणपति / गणपतिकृत / Gaṇapati -- Navalakiśora1885 SARDA
225 मुहूर्त्तचन्द्रिका / अम्बिकाप्साद ने भूषित किया है / Ambikāprasāda -- Navalakiśora1908 SARDA
226 शिशुबोध : जिसमें संवत्सरनाम, अयन, गोल, ऋतु, मास, पक्ष, वार, नक्षत्र नामादि व समस्त मुहूर्त वर्णित हैं / रामादीन पांडेय ने निर्मित किया / Pāṃḍeya, Rāmadīna -- Navalakiśora1915 SARDA
227 समयदीपिका / जिसमें पञ्चाङ्गविचार, स्थूलविचार, आढ़कविचार, शनिराशि व नक्षत्रविचार, सुभिक्ष, दुर्विक्ष विचारादि वर्णित हैं / रघुनाथराव / Raghunātharāva -- Navalakiśora1914 SARDA
228 प्रश्नप्रकाश / रचयिता, राजराम ज्योतिषी / Jyotishī, Rājārāma -- (Rājā) Rāmakumāra[19--]SARDA
229 बंशीरागमाला : जिसमें षट् राग अर्थात भैरव, मेघ, श्री, वसन्त, कर्नाट, हिंडोलादि प्रत्येक रागोंकी छः छः रागनियों सहित स्वर स्वरूप व सवैयादि मनोहर छन्दोंमें वर्णित हैं / लोकनाथकवि द्विदेवी ने निर्म्मित किया / Dvivedī, Lokanāthakavi -- Navalakiśora1889 SARDA
230 विनयविहार / महन्त गुरुशरणदास कृत / Guraśaraṇadāsa, Mahanta -- Navalakiśora1895 SARDA

previous 14 15 16 17 18 19 20 21 22 23 24 25 26 27 28 29 30 31 32 next