HOME    About This Site    mypage        Japanese    library    university    Feedback

Search:All of DSpace

(type:SARDA) is hit count [2903].
Results 271-280.
 

previous 19 20 21 22 23 24 25 26 27 28 29 30 31 32 33 34 35 36 37 next 

271 सर्वसारसंग्रह / परमानन्दकृत / Paramānanda Suhānā -- 1. bhāga -- Navalakiśora1893 SARDA
272 पावसकवित्तरत्नाकर, अर्थात्, पावसऋतु वर्णन : जिसमें श्रीकृष्ण आनन्दकन्द व श्रीजगज्जननी शत्रुदमनी श्रीराधिका महारानीजी के चरित्र पावसऋतु के बिहार में अनेकानेक कबियोंके बनायेहुये कवित्तों में वर्णित हैं / परमानन्द सुहाने ने संग्रह किया / Suhāne, Paramānanda -- Navalakiśora1893 SARDA
273 पत्रदीपिका : जिसमें छोटे छोटे बालकों के अभ्यास करने को प्रत्येक भांति के पत्र लिखने का ढंग बतलाया गया है / 1. bhāga -- Navalakiśora1916 SARDA
274 पद्यसङ्गूह / हनुमान प्रसाद से रचा गया / Hanumāna Prasāda -- Navalakiśora1878 SARDA
275 सांगीतशिखा : जिसमें खेमटा, बिहाग, भजन, होली और कजली इत्यादिक अनेक राग रागिनियां हैं / बख्शरामपांड़े ने संग्रह किया / Pāṇḍe, Bakhśarāma -- Navalakiśora1891 SARDA
276 प्लेग की बीमारी और उससे बचने के उपाय / Newul Kishore1910 SARDA
277 रामराग : सरल हिन्दीभाषा में दोहे व चौपाई व सोरठे करके वेदान्त के मार्गपर भक्तजनों के हर्ष हेतु निर्मित कियागयाहै / मित्ररचित / Mitrasaina -- Navalakiśora1892 SARDA
278 लक्ष्मीसरस्वतीसंवाद : जिसमें प्रश्नोत्तर की रीतिपर एतद्देशीय कन्याओं और स्त्रियों की शिक्षा के निमित्त नीतिशिक्षा पूर्ण मनोहर कथाएं वर्णित हैं / नवीनचन्द्रराय ने रचना की / Rāya, Navīnacandra -- 1. bhāga -- Navalakiśora1886 SARDA
279 लक्ष्मीसरस्वतीसंवाद : जिसमें प्रश्नोत्तर की रीतिपर एतद्देशीय कन्याओं और स्त्रियों की शिक्षा के निमित्त नीतिशिक्षा पूर्ण मनोहर कथाएं वर्णित हैं / नवीनचन्द्रराय ने रचना की / Rāya, Navīnacandra -- 2. bhāga -- Navalakiśora1886 SARDA
280 The Gulistan (Rose garden) / by Sady, of Sheeraz ; translated from the original by Francis Gladwin / Saʿdī Shīrāzī, 1184-1291,Gladwin, Francis, d. 1813? -- 6th ed. -- Newul Kishore1911 SARDA

previous 19 20 21 22 23 24 25 26 27 28 29 30 31 32 33 34 35 36 37 next