ホーム    このサイトについて    論文の投稿・確認        English    図書館    東京外国語大学    問合せ

検索対象:リポジトリ全体

(type:SARDA)の該当件数は2903件です。
281-290件目
 

 20 21 22 23 24 25 26 27 28 29 30 31 32 33 34 35 36 37 38  

281 साहित्ययुगलविलास : जिसमें साहित्य की सम्पूर्णबातें अति ललित दोहा छन्दमें वर्णन कीगई हैं / रामकान्ता शरण ने रचना किया / Śaraṇa, Rāmakāntā -- Navalakiśora1889SARDA
282 सहेली के पत्र / लेखिका, सय्यद क़ासिमअली / Qāsima Alī, Sayyada -- Navalakiśora1937SARDA
283 पंच पचीसी : जिसमें महिमापचीसी, ज्ञानपचीसी, गोबिन्दनामापचीसी, प्रश्नोत्तर पचीसी, आनन्दपचीसी हैं / रामानन्द चतुरदासने निर्मित किया / Caturadāsa, Rāmānanda -- Navalakiśora1890SARDA
284 [خزینة الاصفیا] / [غلام سرور لاهوری] / G̲h̲ulām Sarvar, Muftī -- [جلد 1] -- ثمر هند1290 [1873 or 1874]SARDA
285 विजयमुक्तावली : जिसमें दोहा चौपाई आदि छन्दों में सम्पूर्ण महाभारत का संक्षेप अति उत्तमता से वर्णित है / छत्रकविने निर्मितकिया / Siṃha, Chatra -- Navalakiśora1913SARDA
286 तोता मैना आठ भाग / [रंगीलालकृत] / Raṅgīlāla -- (Rājā) Rāmakumāra[19--]SARDA
287 रसप्रवोध : जिसमें स्वकीया, परकीया, मध्या, मुग्धा, उत्का, प्रौढ़ा, वा ग्विदग्धा, कियाविदग्धा खण्डिता, कलहन्तरि तादि नायकाओंका भेद यथातत्थ्य दोहाओं में वर्णित है / सय्यद गुलामनवीकविने निर्मित किया / Gulāmanavī, Sayyad -- Navalakiśora1890SARDA
288 विजयविशाल : जिसमें जैमिनिपुराणान्तर्ग्गत श्रीयुधिष्ठिरजीकी यज्ञ व दिग्विजय कथा अत्युत्तम व मनोहर दोहा चौपय्यादि छन्दोंमें वर्णित है / हजारीलालने निर्मित किया / Hajārīlāla -- Navalakiśora1890SARDA
289 श्यामकेलि : जिसमें सच्चिदानन्द आनन्दकन्द श्री कृष्णचन्द्र जी और सर्व सुखखानी श्रीराधिकारानीजी की केलि ... / लालागणपतिराय कृत / Gobinda Sahāya, Lālā -- Navalakiśora1889SARDA
290 तुलसीदासकृत रामायणकी मानसदीपिका / मिश्रईश्वरकविकृत ; मुंशीनवलकिशोर ने अच्छे 2 पण्डितों के द्वारा शुद्धकराया / Miśra, īśvarakavi -- 2. bāra -- Navalakiśora1894SARDA

 20 21 22 23 24 25 26 27 28 29 30 31 32 33 34 35 36 37 38