HOME    About This Site    mypage        Japanese    library    university    Feedback

Search:All of DSpace

(type:SARDA) is hit count [2903].
Results 381-390.
 

previous 30 31 32 33 34 35 36 37 38 39 40 41 42 43 44 45 46 47 48 next 

381 [सारस्वतं व्याकरणम्] / s.n.1---]SARDA
382 भक्तरसनामृत : जिसमें प्राचीन और नवीन कबियों के रचित सबप्रकार के गाने की चीज़ें भजन प्रातकाली ठुमरी दादरा मारफ़त ग़ज़ल भक्तजनोंके आनन्दार्थ संगृहीतहै / मुंशी जगन्नाथसहाय ने संग्रहकिया है / Jagannāthasahāya, Muṃśī -- Navalakiśora1908 SARDA
383 भजनावली : जिसमें शिवविवाह, आरती, प्रभाती, भजन, होली, चैत, गीतगोविन्द, बारहमासा, ठुमरी आदि अतिउत्तम सरस छन्दों और रागों में भक्तजनों के आनन्द के निमित्त वर्णित हैं / मुंशी जगन्नाथसहाय विरचित / Jagannāthasahāya, Muṃśī -- Navalakiśora1911 SARDA
384 नूरनामा : उर्दू से हिन्दी में लिखागया / Navalakiśora1912 SARDA
385 शिवपार्व्वतीचरित्र : भाषाछन्दोवद्ध : जिसमें काशिकागमन, जड़चेतनी, और गिरिजामंगल भी संयुक्त हैं / ओरीलालने निर्माण किया है / Orīlāla -- Navalakiśora1886 SARDA
386 भ्रम-नाशक : अर्थात् अज्ञान-रूपी अंधकार का नाश करनेवाला गुरु-शिष्य संवाद में वेदांत-विषय का अपूर्व निबंध / बाबा परमानंदद्वारा लिखित / Paramānanda -- Navalakiśora1924 SARDA
387 श्रीअनुरागरस / नारायणस्वामी ने रचना किया / Nārāyaṇa Svāmī -- Navalakiśora1914 SARDA
388 ميزان المنطق / مطبع نولكشور[1---]SARDA
389 رامائن یکقافیہ منظومۂ افق / تصنیف, دوارکا پرشاد افق / Ufuq, Dvārkā Prashād -- نولکشور1914 SARDA
390 سکهون کا طلوع و غروب / من تصنیفات, راجہ شیو پرشاد (= Rise and fall of the Sikh nation) / Shīv Prashād, Rājah -- نولکشور1888 SARDA

previous 30 31 32 33 34 35 36 37 38 39 40 41 42 43 44 45 46 47 48 next