HOME    About This Site    mypage        Japanese    library    university    Feedback

Search:All of DSpace

(type:SARDA) is hit count [2903].
Results 41-50.
 

previous 1 2 3 4 5 6 7 8 9 10 11 12 13 14 next 

41 शैवीनिधि = शैवी निधि / ओरीलाल कायस्थ ने रचना किया है / Kāyastha, Orīlāla -- Navalakiśora1886 SARDA
42 भक्ताम्बुनिधि : जिसमें रामबिनय, भक्तिबन्दना, भगवद्भक्तोंका माहात्म्य, सत्सङ्गमाहात्म्य, नाभाजी, राजाहरिश्चन्द्र, राजाबलि, राजादशरथ, भीष्मजी, सुरथ, सुधन्वा, हरिदास, जगदेव ... / जियालालत्रिपाठी ने रचना किया / Tripāṭhī, Jiyālāla -- Navalakiśora1895 SARDA
43 बैराग्यप्रकाश : अन्तर्ग्गत भजनप्रदीप व सज्जनबिलास : जिसमें अत्युत्तम बैराग्य व ज्ञान निर्मान और काम क्रोध लोभ मोह जगद्विषयादि खण्डन सहित ईश्वर यशानुराग मण्डन व भगवती शिवकाशी विश्वनाथादिप्रशंसा सहित मनोहरपद अल्हैया भैरवी होरी खेम टादिरागोंमें बर्णित है / माधवसिंहने निर्मित किया / Siṃha, Mādhava -- Navalakiśora1880 SARDA
44 कुलोचितधर्मशिक्षा : भाषा टीका समेत : जिसमें चारोंवर्णों के कर्म की प्रधानता श्रीशङ्कराचार्य्य जीको जैनबौद्धादिकों के मतको श्रुतिस्मृति पुराणों से खण्डन करके दिग्विजयके इतिहास व गौतम महर्षिके शाप से पाखण्ड मतकी उत्पत्ति का वृत्तान्त और अनेक प्रकार के धर्म्मों का कथन भली भांति वर्णित है / शिवगोविन्द शर्मा से निर्माण कराई / Śarmā, Śivagovinda -- Navalakiśora1910 SARDA
45 सारस्वत सटीक : जिसमें हसान्त पुल्लिंग, हसान्त स्त्रीलिंग, हसान्त नपुंसकलिंग, युष्मदस्मद्शब्द, अव्यय और स्त्रीप्रत्यय पर्य्यन्त विषय वर्णित हैं / पण्डितउमादत्त और पण्डितशक्तिधर सुकुलने भाषाटीका रचना किया / Umādatta,Sukula, Śaktidhara -- 2. khaṇḍa -- Navalakiśora1891 SARDA
46 ज्ञानदीपका : जिसमें प्रेमानुरागियों के चित्त विनोदार्थ : स्वयंब्रह्म परमेश्वर व महादेवजी के कीर्त्तन व स्तोत्र व हनुमानअष्टक अतिसुगमता के साथ अनेक प्रकार के ललित छन्दों में वर्णित हैं / दत्तसिंह ने बनाया ; पंडित दयानन्द ने संशोधनकिया / Varmmā, Dattasiṃha,Paṇḍita, Dayānanda -- Navalakiśora1889 SARDA
47 श्रीस्कन्दपुराणान्तर्गत केदारखंडस्थ मायापुरीमाहात्म्य : मंगलाभाषाटीका सहित / टीकाकार, महावीरप्रसाद मिश्र / Miśra, Mahāvīraprasāda -- Navalakiśora1938 SARDA
48 श्रमदवाराहपुराण : अषटादशमहापुराणमध्ये / [अनुवादक], माद्धवप्रसाद शर्म्मा ने संस्कृत भाषा से आर्य्य भाषा में किया ; मत्पण्डितवर दुर्गाप्रसाद औ सरयूप्रसाद ने शुद्ध किया / Śarmmā, Māddhavaprasāda,Durgāprasāda,Sarayūprasāda -- uttarārddha -- Navalakiśora1889 SARDA
49 [सारस्वत सटीक] / [पण्डित शक्तिधर] / Sukula, Śaktidhara -- [Navalakiśora][1893]SARDA
50 काशीमाहात्म्य / Navalakiśora[19--]SARDA

previous 1 2 3 4 5 6 7 8 9 10 11 12 13 14 next