HOME    About This Site    mypage        Japanese    library    university    Feedback

Search:All of DSpace

(type:SARDA) is hit count [2903].
Results 211-220.
 

previous 13 14 15 16 17 18 19 20 21 22 23 24 25 26 27 28 29 30 31 next 

211 चुरिहारिन लीला : अर्थात् श्रीकृष्णजी महाराज का चुरिहारिन बन कर श्रीराधिकाजी महारानी से मिलना / विश्वेश्वरप्रसाद ने निर्माण किया / Viśveśvara Prasāda -- Navalakiśora1909 SARDA
212 श्रीरसार्णव : जिसमें अष्टनायकाओं अर्थात् स्वकिया, परकीया, मध्या, सामान्या, उत्का, प्रौढ़ा, प्रगल्भादिके भेद व लक्षण काब्य रीतिसे मनोहर दोहाकवित्तों में वर्णित हैं / श्रीशुकदेव कवि ने निर्मितकिया / Śukadeva -- Navalakiśora1890 SARDA
213 नानार्थ नवसंग्रहा वली / माता दीन शुक्ल से वनवाया / Śukla, Mātā Dīna -- Navalakiśora1874 SARDA
214 आलसियों का कोड़ा / राजा शिवप्रसाद सितारैहिन्द की बनाईहुई उर्दू किताब से बाबू प्रियनाथ मित्र ने हिन्दी में उल्था किया / Śivaprasāda, Sitāraihinda,Mitra, Priyanātha -- Navalakiśora1898 SARDA
215 गोस्वामी तुलसीदास-कृत, रामायण अयोध्या-कांड / [तुलसीदास] / Tulasīdāsa, 1532-1623 -- Navalakiśora Presa1924 SARDA
216 गोमती-लहरी / चन्द्रकेतुशर्मविनिर्मिता ; अङ्गदरामशर्मणा विरचितया भाषाटीकया समलंकृता / Śarmā, Candraketu,Śarmā, Aṅgadarāma -- Navalakiśora1928 SARDA
217 लघुसिद्धान्तकौमुदी / वरदराजकृता ; रामविहारीसुकुलेशोधिता / Varadarāja, 17th cent,Sukule, Rāmavihārī -- Navalakiśora1889 SARDA
218 गुसाईं तुलसीदास-कृत, आरण्य-काण्ड / [तुलसीदास] / Tulasīdāsa, 1532-1623 -- Navalakiśora Presa1921 SARDA
219 रासलीला : जिसमें श्रीकृष्णचन्द्र परब्रह्मपरमेश्वर का श्रीराधा ललिता आदि गोपियों के साथ रासविहार आदि का वृत्तान्त सुछन्दों में वर्णित है / द्वारकाप्रसाद वाजपेयी ने निर्मित किया / Vājapeyī, Dvārakā Prasāda -- Navalakiśora1912 SARDA
220 सावन का मेला : नई कजली : जिसमें बर्षाऋतु में आनन्द देने योग्य मलार और कजलियाँ हैं / Navalakiśora1909 SARDA

previous 13 14 15 16 17 18 19 20 21 22 23 24 25 26 27 28 29 30 31 next