HOME    About This Site    mypage        Japanese    library    university    Feedback

Search:All of DSpace

(local:88) is hit count [2903].
Results 31-40.
 

previous 1 2 3 4 5 6 7 8 9 10 11 12 13 next 

31 [मिताक्षरा स॰ प्रायश्चित्तकाण्ड / दुर्गाप्रसाद शुक्ल] / Śukla, Durgā Prasāda -- Navalakiśora1888]SARDA
32 स्कन्दपुराणान्तर्गत सेतुमाहात्म्यखंड का भाषानुवाद / अनुवादक, पं॰ दुर्गाप्रसाद / Durgāprasāda, Paṃ. -- Navalakiśora1928 SARDA
33 अथ दुर्गापाठ सटीक / [नागोजिभट्ट] / Nāgeśabhaṭṭa, fl. 1670-1750 -- Navalakiśora1907 SARDA
34 शैवीनिधि = शैवी निधि / ओरीलाल कायस्थ ने रचना किया है / Kāyastha, Orīlāla -- Navalakiśora1886 SARDA
35 वैशाखमासमाहात्म्य भाषाटीका सहित / (Rājā) Rāmakumāra1953 SARDA
36 हनुमान्नाटक भाषा, अर्थात, श्रीवरविलास : जिसमें श्रीरामचन्द्रजी की जन्म से लेकर राजगद्दी पर्य्यन्त कथायें अतिमनोहर दोहा, चौपाई, कवित्त, सवैयादि छन्दों में वर्णित हैं / रामाजी चतुरदास ने रचना किया / Caturadāsa, Rāmā -- Navalakiśora1913 SARDA
37 सीतारामविवाहसंग्रह : जिसमें गोस्वामि तुलसीदासजीकृत मानसरामायण बालकाण्ड और अनेक सद्ग्रन्थोंसे श्रीसीतारामविवाहोत्सव का संग्रह किया गया है / रामप्रताप ने प्रकट किया / Tulasīdāsa, 1532-1623,Ramapratāpa -- Navalakiśora1893 SARDA
38 रामनिवास रामायण : जिसमें श्रीगोस्वामितुलसीकृतरामायणकीरीतिसे सातोकांड श्रीरामचन्द्रजन्मोत्सव बाललीला बिश्वामित्रयज्ञरक्षण धनुषयज्ञ जानकीस्वयम्बर धनुभंग परशुरामसम्बाद बनागमन जानकीहरण रावणबध भरतमिलाप राज्याभिषेक ज्ञानमार्गरामगीता प्रेमाधिकार जानकीबिजय अश्वमेधयज्ञ बिनयनयनीतिबिचारादि की मनोहर कथा ललित अनेक छन्दोंमें बर्णितहै / जानकीप्रसादने निर्मित किया / Tulasīdāsa, 1532-1623,Jānakīprasāda -- Navalakiśora1889 SARDA
39 कवीन्द्रलक्ष्मीनारायणजीका जीवनचरित्र : जिला बनारस मुहल्ला धर्मकूपनिवासी विद्वद्वरकवीन्द्र लक्ष्मीनारायणजी का जीवनचरित्र वर्णित है और उसीके अन्तर्गत उक्ततमहाशय कृत विक्टोरिया दशक, शिवताण्डक्की व्याख्या, गंगालहरी शतक भी संयुक्तहै / [लक्षमीनारायणाह्वकवि] / Lakshmīnārāyaṇa -- Navalakiśora1902 SARDA
40 श्रीनाथसंग्ह : जिसमें छद्मछबीसी, नाथपदमंजरी गणेशाष्टक, अम्बिकाष्टक, भवानीपंचरत्न, गंगाष्टक, अन्नपूर्णाष्टक, संकटाष्टक, अम्बाविनयाष्टक, विश्वनाथाष्टक, शिवाष्टक, कवीरशाहीपद, काशीपंचरत्न, रामजन्माटक, रघुनाथाष्टक, हनुमन्ताष्टक, कृष्णजन्माष्टक, राधिकाष्टक, यमुनाष्टक, बल्देवाष्टक, कृष्णाष्टक, श्यामाष्टक, मोहनाष्टक, गोपिकाष्टक, गोपीविरहाष्टक, गोपीकरुणाष्टक, गोपीविलापाष्टक, गोपीप्रलापाष्टक, विरहपंचरत्न, मल्लाराष्टक, झूलाष्टक, जनकपुराष्टक, रामब्याहगारी, केशवाष्टक, माधवाष्टक, छद्मपंचरत्न, सांझीपंचरत्न, निर्गुणाष्टक, फागुनवर्णन, गोचारनपंचरत्न, कज्जलिकाष्टक, धनुर्यज्ञसोहराष्टक, रासपंचरत्न, बहारपंचरत्न, आरतीपंचरत्नादि पुस्तकैं अन्तर्ग्गतहैं / लोकनाथद्विदेवीकृत / Dvivedī, Lokanātha -- Navalakiśora1889 SARDA

previous 1 2 3 4 5 6 7 8 9 10 11 12 13 next